Essay on Diwali in hindi |  दिवाली पर निबंध 2022

Essay on Diwali in hindi : भारतीय लोग त्योहारों से प्यार करने वाले लोग हैं। जो उत्तरायण, होली-घुलेटी या नवरात्रि बाघा पर्व को बड़े हर्षोल्लास से मनाते हैं। तो चलिए आज हम ऐसे ही एक त्योहार दिवाली (Essay on Diwali in Hindi) के बारे में एक निबंध लिखते हैं।

Essay on Diwali in hindi | दिवाली के बारे में निबंध

दुनिया का हर देश किसी न किसी तरह के त्योहार मनाता है और जीवन में उत्साह और प्रेरणा का संचार करता है। साल के दौरान लगभग एक हजार त्योहार होते हैं। इनमें से कई त्योहारों ने समय बीतने के साथ अपना प्रभाव खो दिया है। जबकि कई त्यौहार अभी भी जीवित हैं। जिसमें भारतीय संस्कृति नजर आती है इन सभी त्योहारों में दिवाली सबसे प्रभावशाली त्योहार है।

दीपावली का अर्थ है रोशनी का त्योहार। इस त्योहार को संस्कृत में ‘दिवाली’ और प्राकृत में ‘दिवाली’ के नाम से जाना जाता है। दिवाली भारत का एक बहुत ही प्राचीन त्योहार है। प्रारंभ में यह पर्व ऋतु पर्व के रूप में था लेकिन सिद्धू संस्कृति के युग में यह पर्व स्वाभाविक रूप से मनाया जाता था। समय बीतने के बाद इसे कृषि उत्सव के रूप में मनाया जाने लगा और फिर इसने लोक उत्सव का रूप ले लिया।

दिवाली का त्योहार छह दिनों तक चलने वाला त्योहार है, जिसका नाम है वाघबारस, धनतेरस, काली चौदस, दिवाली, बेस्टु वर्सा और भाईबीज।

दिवाली आने से पहले लोग अपने घर की सफाई करते हैं। पुरानी चीजें हटा दी जाती हैं और नई चीजें स्थापित की जाती हैं। नए कपड़े खरीदता है। दिवाली पर ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग अपने गृहनगर जाते हैं। दिवाली परिवार के साथ मनाया जाने वाला त्योहार है। इस त्योहार को युवा और बूढ़े सभी मिलकर मनाते हैं। पटाखे फूटते हैं। रॉकेट लॉन्च होता है। आदि सभी आनंद लेते हैं।

दिवाली के त्यौहार में धनतेरस के दिन धन (लक्ष्मी) की पूजा की जाती है । इसे देवताओं के वैध धन्वंतरि का जन्मदिन माना जाता है । लोग अपने घरों में धन की पूजा करते हैं। दुकानदार दुकान में औजारों की पूजा करते हैं। और नवीन एक नई नोटबुक के साथ एक नया खाता शुरू करता है। इस दिन महिलाएं सुबह जल्दी उठकर बरगद के पत्ते बनाकर उनमें दीपक जलाकर नदियों में प्रवाहित करती हैं। इस दिन कई लोग पूर्वजों को श्रद्धांजलि भी देते हैं। और गाय के गोबर की पूजा की जाती है। गायों को भी रंगा जाता है।

काली चौदस के दिन गांवों में किसान कलश भरकर खेत में फेंक देते हैं। शक्ति या देवी और भुवों के उपासक भूत को जलाने जाते हैं। कई भुव रात में श्मशान घाट जाते हैं और साधना करते हैं। इस दिन आंखों में जाली लगाने का विशेष महत्व है। इसके लिए एक कहावत जानी जाती है।

‘काली चाय दास ‘ की ‘अंजयो

ए न जाए कोइती गज्यो ‘

 दीपावली काली चौदहवीं की 5वीं तिथि को आती है । फिर यह दिन पूर्व दिशा में खिलता है। दीपावली की सुबह प्रांगण की साफ-सफाई की जाती है और रंग-बिरंगी रंगोली से सजाया जाता है। रात में घर में दीया जलाकर रोशनी की जाती है। इस दिन बच्चे नए कपड़े पहनते हैं और पटाखे फोड़ते हैं। मिठाई खाओ इस दिन घर में 5 नए व्यंजन बनाए जाते हैं। इस दिन पूरा आसमान रोशनी से भरा नजर आता है। 

दीपावली के पांचवें दिन का अर्थ है बीस वर्ष। इस दिन सुबह-सुबह गांव की महिलाएं घर से निकल जाती हैं। काले रंग का होलू या तवाडी हाथ में लेकर और ‘अलस जाए ने लक्ष्मी ऐ’ कहकर लोग इस दिन अपने रिश्तेदारों से मिलने उकर्डे जाते हैं और उन्हें नव वर्ष की शुभकामनाएं देते हैं। एक दूसरे को मीठा बनाते हैं।

यह भी पढ़ें :

नए साल के पांचवें दिन के दूसरे दिन को भाई बीज के रूप में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यमराज ने इसी दिन अपनी बहन यमुना को वहां भोजन कराया था। इसलिए इस दिन भाई अपनी बहन के घर भोजन करता है। भाई भी बहन को उपहार देता है। 5 भी गले लगाते हैं।

इस प्रकार दीपावली का पर्व आनंद और उल्लास का पर्व बन जाता है। इंसान के दिल को जोडकर दूरियों का अमीरात बन जाता है। यदि आप दिवाली के महत्व, इतिहास के बारे में जानना चाहते हैं , तो आप हमारे लेख को लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

Essay on Diwali in 10 lines in Hindi | दीपावली पर निबंध 10 पंक्तियों में 

  1. दिवाली हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है।
  2. दिवाली का त्योहार हर साल असो महीने की अमावस्या के दिन मनाया जाता है।
  3. इस दिन भगवान श्री राम चौदह वर्ष का वनवास पूरा कर अयोध्या लौटे थे।
  4. भगवान श्री राम जी की स्वदेश वापसी की खुशी बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाई गई, तब से यह परंपरा आज भी जारी है।
  5. दिवाली का त्यौहार धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भैया दूज जैसे त्योहारों के साथ मनाया जाता है।
  6. दिवाली के दिन सभी अपने घरों में भगवान गणेश, मां लक्ष्मी और मां सरस्वती की पूजा करते हैं.
  7. पूजा के बाद सभी ने अपने बड़ों का आशीर्वाद लिया।
  8. दिवाली पर लोग एक दूसरे को उपहार और मिठाई देते हैं।
  9. इस दिन बच्चे और बड़े एक साथ खूब पटाखे फोड़ते हैं।
  10. दीपावली का पर्व निराशा पर आशा की जीत के पर्व के रूप में मनाया जाता है।

दिवाली निबंध 5 पंक्तियां | Diwali essay 5 lines in Hindi 

  1. दिवाली भारत में सबसे लोकप्रिय त्योहार है।
  2. दिवाली को रोशनी का त्योहार या रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है।
  3. खासकर बच्चों के लिए यह त्योहार खुशियां लेकर आता है। बच्चे तरह-तरह के पटाखे और रॉकेट फोड़कर जश्न मनाते हैं।
  4. इस दिन श्री राम वनवास पूरा करके अयोध्या में अपने घर लौटे थे।
  5. हिंदू नव वर्ष (बेस्टू) दिवाली के पांचवें दिन मनाया जाता है।

मेरा पसंदीदा त्योहार दिवाली निबंध 100 शब्दों में 

दीपावली का त्योहार सभी के लिए खुशियां लेकर आता है चाहे वो बड़े हों या बच्चे। इस पर्व को सभी लोग बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं। दीपावली का त्योहार स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि में भी बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। दीपावली का यह पर्व असो मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है।

दीपावली न केवल भारत में बल्कि भारत के बाहर रहने वाले विदेशों में भी पूरे भारत में बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है।

इसी परंपरा को निभाते हुए हम हर साल बड़ी धूमधाम से दिवाली मनाते हैं। इस दिन धन की देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस प्रकार दिवाली खुशियों का त्योहार है जो हमारे जीवन में खुशियां फैलाता है।

FAQ

प्रश्न-1. दिवाली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

हम सभी जानते हैं कि भगवान राम ने रावण को हराया था और उसी दिन भगवान राम 14 साल का वनवास समाप्त करके अयोध्या लौटे थे। वह खुशी पूरे अयोध्या में मनाई गई और तब से माना जाता है कि इस दिन से दिवाली का त्योहार मनाने की परंपरा शुरू हुई है।

प्रश्न-2. दिवाली का त्यौहार कब मनाया जाता है?

दीपावली का पर्व प्रत्येक वर्ष असो मास की अमावस्या को मनाया जाता है

यह भी पढ़ें :

Conclusion

मुझे उम्मीद है कि आपको हमारा दिवाली निबंध (Essay on Diwali in Hindi) लेख बहुत पसंद आया होगा। हम अपने ब्लॉग पर ज्ञान, निबंध, जीवनी, तकनीक, पैसे कमाना जैसे विविध विषयों पर लेख प्रकाशित करना जारी रखेंगे। यदि आपने वास्तव में कुछ नया सीखा है और यह लेख उपयोगी पाया है, तो इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करना न भूलें। आपका लाइक, कमेंट और शेयर हमें और अधिक लिखने और आपको नवीनतम जानकारी प्रदान करने के लिए प्रेरित करता है।

Sharing Is Caring:

नमस्ते, मैं नीरज कुमार (माही) हूँ और मैं स्नातक का महाविद्यालय का छात्र हूँ। लेकिन मैं एक फुल टाइम ब्लॉगर हूं और 2020 से ब्लॉगिंग कर रहा हूं। यह ब्लॉग वेबसाइट (माही स्टडी) मेरे द्वारा स्थापित है।

Leave a Comment