Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

Table of Contents

Aisa Kyon Hota Hai Facts In Hindi ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

तो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे पोस्ट में ऐसा क्यों होता है facts (aisa kyu hota hai facts in hindi) | इस पोस्ट में हम आपके उन सवालों के जवाब को जानने वाले हैं जो आपके मन में कभी आए होते है या फिर कभी आप उन सवालों के जवाब को ढूढ़ रहे होते है की आखिर ऐसा क्यों होता है facts in hindi (esa kyu hota hai facts)| 10 Interesting Facts In Hindi | दुनिया के कुछ रोचक और हैरान करने वाले तथ्य Aisa Kyu Hota Facts In Hindi.

1. ऐसा क्यों होता है कि हवेलीया गर्मियों में ठंडी और जाड़ों में गर्म रहती है? 

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

अगर आपके भी मन में यह सवाल चल रहा है कि हवेलीया गर्मियों में ठंडी और जाड़ों में गर्म रहती है? आखिर ऐसा क्यों होता है ?(Aisa Kyon Hota Hai) तो आपको बता दे कि दरअसल हवेलियों की बनावट कुछ इस प्रकार की होती है। दीवारें मोटी मोटी होती है जो इंसुलेशन का काम करती हैं तो बाहर की सर्दी या गर्मी का असर अंदर कम होता है। पहले चुनाई में चूने और रेत का प्रयोग होता था चूना गर्मी में ठंडा रहता है। मिट्टी की चुनाई भी होती थी यह सब इंसुलेशन का काम करते हैं जब कि सीमेंट गर्मी में गर्म और सर्दी में ठंडा हो जाता है। और पहले छत की ऊंचाई भी काफी ज्यादा होती थी। पहले छत बल्ली और चौके से बनती थी उस पर दो जड़ा होता था इससे भी अंदर ठंडक रहती थी। और हवेली बनाते समय दिशा का भी ध्यान रखा जाता था तो अंदर खूब हवा आती थी। 

शायद आप समझ गए है कि हवेलीया गर्मियों में ठंडी और जाड़ों में गर्म क्यों रहती है? तो चलिए और भी कुछ सवालो के जवाब को जान लेते है ऐसा क्यों होता है?(Aisa Kyon Hota Hai) और हो सके की आपको यह जानकारी अच्छी लगे और आपके काम भी आए | 

10 Interesting Facts In Hindi | दुनिया के कुछ रोचक और हैरान करने वाले तथ्य

2. ऐसा क्यों महसूस होता है कि भोजन छाती के बीच में फंस गया हो? 

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

तो दोस्तों अगर आपको भी ऐसा कभी लगता है कि भोजन छाती के बीच में फंस गया हो? तो इसका सीधा और सिंपल अर्थ है कि आपको कब्ज है | अगर जब आपको पता है की आपको कब्ज है तब आपको क्या करनी चाहिए | 

इसके लिए आप रोज खाली पेट कम से कम 2 लीटर पानी पिए और फिर फ्रेश होने जाए |  खाने के बाद मोटी सौंफ, मिश्री और गरी अवश्य खाएं | 

aisa kyu hota hai facts in hindi Aisa Kyon Hota Hai Facts In Hindi

यह भी  पढ़े :

3. ऐसा क्यों होता है जब जनरेटर में लगी एक बल्ब फ्यूज हो जाने से सभी बल्ब नहीं जलती है?

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

विद्युत उपकरणों को विद्युत परिपथ में दो प्रकार से जोड़ा जाता है।

1 समांतर क्रम में —- हमारे घरों में खंभे पर से बिजली के दो तार आते हैं। एक गर्म तार और दूसरा ठंडा। जब हम सभी बल्बों का एक सिरा गर्म तार में और दूसरा सिरा ठंडे तार में जोड़ते हैं तो सभी बल्ब‌‌‌ स्वतंत्र रूप से बिजली लेते हैं। इनमें से यदि एक बल्ब फ्यूज हो जाता है उसका तार टूट जाता है तो केवल उसी बल्ब की बिजली बाधित होती है और बाकी सभी बल्ब जलते रहते हैं।

2 श्रेणी क्रम —- जब पहले बल्ब एक सिरा बिजली के गर्म तार के साथ और दूसरा सिरा दूसरे बल्ब के पहले सिरे के साथ फिर दूसरे बल्ब का दूसरा सिरा तीसरे बल्ब के साथ और फिर आखरी बल्ब का अंतिम सिरा ठंडे तार के साथ जोड़ देते हैं। इस व्यवस्था में बिजली का करंट गर्म तार से पहले बल्ब में, फिर दूसरे, तीसरे, चौथे और फिर अंतिम बल्ब से ठंडे तार में जाती है। इनमें से यदि कोई एक बल्ब फ्यूज हो जाता है तो बिजली का परिपथ टूट जाता है और विद्युत सप्लाई बंद हो जाती है और सभी बल्ब ‌‌ बुझ जाते हैं।

आपने यह अवश्य नोट किया होगा कि जनरेटर से प्रज्वलित होने वाले बल्ब एक सीध में एक के बाद एक लगे होते हैं। बल्ब की इस व्यवस्था को Series Combination कहते हैं। इस प्रकार के संयोजन में एक बल्ब से जितनी करंट गुजरती है उतनी ही करंट अन्य बल्बों से गुजरती हैं। इस प्रकार यदि एक बल्ब फ्यूज हो जाता है तो परिपथ वहीं से टूट जाता है तथा आगे करंट का प्रवाह नहीं हो पाता है इसलिए आगे के बल्ब नहीं जलते हैं।

यह भी पढ़े –

मरे हुए ऊँट के बॉडी को छूने से क्यों माना किया जाता है ?

अंतरिक्ष में गई महिला, जो वापस कभी पृथ्वी पर लौटी ही नहीं?

4. मुझे सिर्फ शाम को खांसी आती है ऐसा क्यों होता है?

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

जिसको सुबह और शाम खांसी आती है उसे सूखी खांसी कहते हैं इस में कफ बाहर नहीं आता है लेकिन अंदर ही अंदर दिल घबराता है और इसलिए सुबह और शाम को गुनगुना पानी पीने का प्रयास करें क्योंकि  इससे आराम मिलता है तो इसको आजीवन भर लागू करें क्योंकि मौसम बदलते हैं उसी तरह से इसका रूप भी बदलता रहता है| 

aisa kyu hota hai facts in hindi Aisa Kyon Hota Hai Facts In Hindi

अगर आपको सिर्फ शाम को खांसी आती है तो इस तरह से खांसी आना, किसी गंभीर रोग का कारण भी हो सकता है वैसे आप मेरा बात माने तो इसके लिए आप अपने किसी नजदीकी अस्पताल या डॉक्टर सलाह जरूर ले, लेकिन  मैं तो कहूंगा की सिर्फ इसके लिए ही नहीं बल्कि आपको किसी भी तरह की समस्या होती है तो आप सबसे पहले किसी डॉक्टर से मिलकर समस्या बताएं और सलाह ले | आप अपने से कुछ ऐसे करने की कोशिश न करे नहीं तो छोटी बात बड़ी भी हो सकती है |

 लेकिन कई बार यह मौसम के वजह से भी होता है | सुबह – शाम खांसी आना मतलब आपको ठंडी हवाए बर्दाश्त नहीं हो रही है | 

यह भी  पढ़े :

5. शराब पीने से लिंग में जलन होती है शिश्नमुंड में घाव हो जाता है और असहनीय दर्द होता है ऐसा क्यों होता है?

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

दोस्तों बात जब शराब की आयी है तब भी यही सोच रहे होंगे की शराब पियो और सारे गम भूल जाओ | सच में ऐसा होता है क्या मुझे तो नहीं पता | लेकिन जैसे शराबियो को देखा जाता है और फिल्मों में दिखाया जाता है कि दिल्लगी  में दिल टूटे हुए आशिक अपने गम को भुलाने की लिए शराब पिते है और भूल जाते हैं | 

दोस्तों अगर आप कभी नोटिस किए होंगे तो आपको पता होगा की शराब के नशे में आदमी को दूसरे दिन उस समय की बातें याद नहीं रहती है | तो आपको बता दे कि ऐसा इसलिए नहीं होता है कि वह सब कुछ भूल जाता है बल्कि ऐसा इसलिए होता है कि हमारी मेमोरी उन बातों को फॉर्म ही नहीं कर पाती है | 

खैर ये तो थी शराब से जुडी कुछ बाते, तो चलिए हम अपने मुख्य सवाल को जानते है | 

  दोस्तों  शराब और शबाब का आनंद एक साथ नहीं लिया जाता है और जब आपको शराब पीने से लिंग में जलन होती है तो फिर भला आप शराब के पीछे क्यों पड़े रहते हैं और शिश्न मुंड में घाव हो जाता है | यह एक घातक बीमारी है और इसलिए इससे विशेषज्ञ डॉक्टर से ही इलाज कराना शुरू करें क्योंकि इसका दर्द असहनीय होता है, एवं अंत में आपसे आग्रह है कि झोलाछाप डॉक्टर में कभी नहीं पड़े नहीं तो बची हुई जवानी बर्बाद हो जानी है |  आप बस इतनी ही इलाज यथाशीघ्र शुरू करें | 

aisa kyu hota hai facts in hindi Aisa Kyon Hota Hai Facts In Hindi

यह भी पढ़े

6. जब घाव ठीक होने लगता है तब उस पर भयंकर खुजली क्यों होती है?

हमारी त्वचा इलास्टिन तंतुओं की बनी होती है और इसमें पुनर्निर्माण की अद्भुत क्षमता होती है, जब जलने कटने या घाव की वजह से किसी एक जगह की त्वचा का नुकसान होता है तो त्वचा उस जगह पुनर्निर्माण करती है और इलास्टिन तंतुओं में खींचतान मचती है नतीजा,  खुजली और अगर आपने वहां जी भर खुजलाया तो पुन: त्वचा का नुकसान करते हैं और ज़ख्म भरने का समय बढ जाता है | 

7. यूरिन में प्रेगनेंसी आती है और अल्ट्रासाउंड में नहीं ऐसा क्यों होता है?

दोस्तों अगर आपको यह समस्या है कि यूरिन में प्रेगनेंसी दिखती है और अल्ट्रासाउंड में नहीं, तो बता दे कि आपको अल्ट्रासाउंड यूरिन पॉजिटिव होने के कम से कम 2 सप्ताह बाद कराना चाहिए। तभी कुछ नज़र आ सकता है। अगर कोई शक है तो ब्लड beta hcg टेस्ट करवा लीजिये उससे कन्फर्म हो जाएगा।

8. मै जब भी मीट खाता हूं तो मेरे पेट में बहुत जलन होती है ऐसा क्यों होता है?

Aisa Kyon Hota Hai ऐसा क्यों होता है  10 Amazing Facts 

अगर आपको इस तरह की समस्या मिट खाने के बाद हमेशा होती है तो इसके जवाब में मै तो आपसे यही कहूंगा या फिर ये मेरा सलाह ही समझे – जब आपको पता है कि आपको यह समस्या मीट खाने से हमेशा होती है तो फिर आप क्यों खाते हैं जब आपको ऊपर वाला शाकाहारी बना कर भेजा है तो फिर मांसाहारी भोजन क्यों करते हैं |

ऐसा नहीं है कि हम नहीं खाते है हम भी खाते है पर हमको किसी तरह की समस्या नहीं होती है | अगर आपको किसी चीज का सेवन करने के बाद कोई समस्या होती है तो आप उस चीज से दूर रही ना | 

किसी ने सच कहा कि “खाओ वही, जो मन को भाए। पहनो वही, जो जग को भाए”। सीधे तौर पर खाना वही है जो शरीर के हित में है | 

फिर भी आप चाहते है खाना तो इन कामों को जरूर कीजिए ताकि आपको कुछ राहत मिल सके |

पेट में जलन मतलब एसिडिटी। इसके लिए आप जब भी मटन खाए, खाने के बाद एक चाय चम्मच सौंफ जरूर खा करें। आपको आराम महसूस होगा। अथवा आप सुबह शाम जेलोसिल भी पी सकते हैं। वह भी एक बहुत ही अच्छी दवा है। 

aisa kyu hota hai facts in hindi Aisa Kyon Hota Hai Facts In Hindi

यह भी  पढ़े :

9. रोपण केवल द्विबीजपत्री पौधों में होता है एकबीजपत्री पौधों में नहीं ऐसा क्यों? 

यह सत्य नहीं है।

धान एकबीजपत्री (monocot) पौधा है, लेकिन विश्व भर में इसकी 95% फसल रोपड़ द्वारा ली जाती है। दूसरी ओर सभी दलहनी पौधे जैसे चना, अरहर, उर्द आदि द्विबीजपत्री (dicot) होने के बावजूद इन्हें रोपड़ द्वारा नहीं लगाया जाता है।

रोपड़ के अलग नियम हैं। इसके लिए वे पौधे उपयुक्त होते हैं, जिनमें –

जड़-तंत्र का विकास शर्मीले स्वभाव वाला ना हो,

जड़ें नष्ट होने के बावजूद शीघ्र विकसित होने वाली हो,

जड़ों की ब्रान्चिंग माने ना रखती हो, आदि।

तो दोस्तों ये थी कुछ सवालो के जवाब ऐसा क्यों होता है आशा करते है आपको पसंद आयी होगी | अगर कुछ सवालो का जवाब रह गया होगा या फिर आप जानना चाहते हो तो निचे comment box में Comment जरूर कीजिएगा हम आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे | आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिजनों में Share करके उनको भी जानकारी दे सकते हैं | 

Top 140 Best General Knowledge Questions In Hindi

यह भी पढ़े

50+ Best Happy Holi Wishes And Quotes In Hindi | होली की हार्दिक शुभकामनाएं और सन्देश

Best Holi 2022 Date In Bettiah | होली  क्या है ? क्यों मनाई जाती है ?

Holi 2022 Date : होली कब है, होलिका दहन की शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Sharing Is Caring:

नमस्ते, मैं नीरज कुमार (माही) हूँ और मैं स्नातक का महाविद्यालय का छात्र हूँ। लेकिन मैं एक फुल टाइम ब्लॉगर हूं और 2020 से ब्लॉगिंग कर रहा हूं। यह ब्लॉग वेबसाइट (माही स्टडी) मेरे द्वारा स्थापित है।