Essay on Navratri in Hindi 2022 | नवरात्रि पर निबंध  | नवरात्रि का महत्व 

Essay on Navratri in Hindi 2022 | नवरात्रि पर निबंध  | नवरात्रि का महत्व 

Essay on Navratri in Hindi : अब नवरात्रि में बस कुछ ही दिन शेष हैं, आइए आज नवरात्रि और नवरात्रि के महत्व के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं। नवरात्रि – नव का अर्थ है 9 और रात्रि का अर्थ है रात इसलिए इसका शाब्दिक अर्थ है नौ रातें। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान शक्ति / देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। भारत और दुनिया के कई देशों में नवरात्रि बहुत धूमधाम से मनाई जाती है।

मंदिरों और घरों में मां आद्यशक्ति की स्थापना की जाती है। जिसे हम जवारा कहते हैं वह भी बोया जाता है। इस अनाज को ग्यारह प्रकार के अनाज का उपयोग करके मिट्टी में बोया जाता है। अंत में दसवें दिन माताजी के विदा होने के साथ ही यह जवारा भी विसर्जित कर दिया जाता है। कुछ लोग जवारा को एक शगुन के रूप में पूरे साल अपनी तिजोरी या कोठरी में रखते हैं। नए साल में एक और मुकी पुराने जवारा को छुट्टी देता है। 

नवरात्रि के पहले दिन माताजी की स्थापना के लिए लाल रंग के कपड़े पहनकर देखें। उसका मिट्टी का बर्तन, कलश, नारियल, शुद्ध मिट्टी, गंगाजल, पीतल या तांबे का कलश, इत्र, सुपारी, सिक्का, अशोक या आम के पत्ते, अक्षत और फूल-माला पूजा के लिए इकट्ठा करें। मां दुर्गा की पूजा में दाभदा का प्रयोग नहीं किया जाता है।

स्थापना की विधि

कलश को उत्तर दिशा में स्थापित करना सबसे अच्छा माना जाता है। पहले अखंड दीपक जलाएं। उसके लिए घी का दीपक जलाएं और ध्यान रहे कि अंतिम दिन तक दीपक बुझ न जाए। इसमें समय-समय पर पर्याप्त घी डालें। एक मिट्टी का घड़ा लें और उसमें थोड़ी सी मिट्टी डालें। अब उस पर साबुत चावल, गेहूं, सफेद तिल, जौ, मूंग, चना, सफेद चोली, मटर और सरसों के ग्यारह दाने। चावल और गेहूं अधिक लें और बाकी कम लें। इस प्रकार मिट्टी और अनाज के तीन भाग बना लें। इसके ऊपर एक छोटी सी चटाई बिछा दें। एक बर्तन में पानी, सुपारी और जड़ी बूटी डालें। साथ ही गणेश की स्थापना करें।

गणेश हमेशा कलश के बाईं ओर स्थापित होते हैं। कलश में जल भरकर उसमें सुपारी, इत्र डालकर उस पर नारियल रख दें। देवी की याद में नारियल पर एक गांठ बांध लें। अब इस नारियल को लाल कपड़े में लपेटकर मटली पर रख दें. इसके बाद दुर्गा चालीसा और दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। शक्ति शिव के बिना पूजा अधूरी है, इसलिए उसके बाद शिव का स्मरण करें।

नवरात्रि का महत्व तो आप समझ ही गए होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि नवरात्रि के नौ दिनों में अलग-अलग माताओं की पूजा की जाती है। जानिए दिन के अनुसार माताजी की पूजा।

नवरात्रि पूजा और माताजी की पूजा

नवरात्रि का पहला दिन:

इस दिन माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है। माता शैलपुत्री हिमालय राज की पुत्री हैं। मां के इस रूप की सवारी नंदी है। उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल है। इस दिन पीले रंग के कपड़े पहने जाते हैं।

नवरात्रि का दूसरा दिन :

इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। मां ब्रह्मचारिणी मां दुर्गा का एक रूप हैं। ऐसा माना जाता है कि जब माता पार्वती कुंवारी थीं, तब उनका ब्रह्मचारिणी रूप ज्ञात हुआ। माता ब्रह्मचारिणी के एक हाथ में कमंडल और दूसरे में माला है। इस दिन हरे रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए।

नवरात्रि का तीसरा दिन :

इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, उन्हें यह नाम चंद्रघंटा माता पार्वती और भगवान शिव के विवाह के दौरान मिला था। शिव के मस्तक पर अर्धचंद्र इस बात का साक्षी है। इस दिन भूरे रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं।

नवरात्रि का चौथा दिन :

यह दिन मां कूष्मांडा की पूजा को समर्पित है। शास्त्रों में माता के इस रूप का वर्णन कुछ इस प्रकार किया गया है जैसे माता कुष्मांडा सिंह पर सवार हों। और इनकी आठ भुजाएं हैं। मां के इस रूप के कारण ही धरती पर हरियाली है। मां कुष्मांडा को नारंगी रंग बेहद पसंद है।

नवरात्रि का पांचवां दिन :

इस दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है। माता पार्वती के पुत्र कार्तिकेय का एक नाम स्कंद भी है। स्कंद के माता होने के कारण ही माता को यह नाम मिला। इस रूप में माता की चार भुजाएं हैं। एक माँ अपने बेटे के साथ शेर की सवारी करती है। इस दिन सफेद रंग पहनना शुभ माना जाता है। इस दिन लाल वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है।

नवरात्रि का छठा दिन :

इस दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। माता कात्यायनी दुर्गा माता का उग्र रूप हैं। जो रोमांच का प्रतीक है। माता सिंह पर सवार हैं और उनकी चार भुजाएं हैं। इस दिन नीला रंग शुभ माना जाता है।

Read Also : How To Make Money From Josh App In Hindi| Josh App से पैसे कैसे कमाए ?

नवरात्रि का सातवां दिन :

इस दिन माता कालरात्रि की पूजा की जाती है। यह माँ का चरम रूप है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब माता पार्वती ने शुंभ-निशुंभ राक्षसों का वध किया था, तो उनका रंग काला हो गया था। इस दिन गुलाबी रंग के कपड़े पहने जा सकते हैं।

नवरात्रि का आठवां दिन :

इस दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। मां का यह रूप शांति और ज्ञान का प्रतीक है। इस दिन अष्टमी भी मनाई जाएगी।

नवरात्रि का नौवां दिन :

यह दिन माता सिद्धिदात्री को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि जब कोई मां के इस रूप की पूजा करता है तो उसे सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं। माता सिद्धिदात्री कमल के फूल पर विराजमान हैं। इस दिन रंग-बिरंगे कपड़े पहनना शुभ माना जाता है।

नवरात्रि का पौराणिक इतिहास

साल भर में चार मुख्य और एक वैकल्पिक नवरात्र होते हैं – वसंत नवरात्रि, आषाढ़ नवरात्रि, शरद नवरात्रि और पुष्य नवरात्रि। इनमें से शरद नवरात्रि असो महीने में मनाई जाती है और वसंत नवरात्रि बसंत ऋतु में मनाई जाती है जो कि बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है।

चैत्र (वसंत) नवरात्रि: नौ दिनों में शक्ति के नौ रूपों को समर्पित एक त्योहार। यह त्यौहार वसंत ऋतु (मार्च-अप्रैल) में मनाया जाता है। इसे चैत्री नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। नौ दिनों तक चलने वाले इस उत्सव को राम नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अंतिम दिन रामनवमी है।

गुप्त (आषाढ़) नवरात्रि: गुप्त नवरात्रि, जिसे आषाढ़ या गायत्री या शाकंभरी नवरात्रि भी कहा जाता है, नौ दिनों में शक्ति के नौ रूपों को समर्पित करके आषाढ़ (जून-जुलाई) के महीने में मनाया जाता है। आषाढ़ शुक्ल पक्ष के दौरान गुप्त नवरात्रि का पालन किया जाता है।

 शरद (असो) नवरात्रि: यह सबसे बड़ी नवरात्रि है। इसे आमतौर पर महा नवरात्रि कहा जाता है और यह एसो महीने में मनाया जाता है। इसे शरद नवरात्रि भी कहा जाता है, क्योंकि यह शरद ऋतु में असो महीने के शुभ महीने के दौरान मनाया जाता है।

पुष्य (पोश) नवरात्रि: पुष्य नवरात्रि पुष्य (दिसंबर-जनवरी) के महीने में नौ दिनों में शक्ति के नौ रूपों को समर्पित है। पुष्य नवरात्रि पोश शुक्ल पक्ष में मनाई जाती है।

(वैकल्पिक) माघ नवरात्रि: माघ नवरात्रि, जिसे गुप्त नवरात्रि भी कहा जाता है, माह (जनवरी-फरवरी) के नौ दिनों में शक्ति के नौ रूपों को समर्पित है। माघ नवरात्रि माघ मास के शुक्ल पक्ष में की जाती है।

नवरात्रि में मां शक्ति के नौ रूपों की पूजा की जाती है। देवी की पूजा क्षेत्र की परंपरा पर आधारित है।

मां शक्ति के रूप

(1) दुर्गा, अप्राप्य (2)  भद्रकाली (3)  अम्बा या जगदम्बा, दुनिया की माँ (4)  अन्नपूर्णा, अनाज की दाता (5)  सर्वमंगल, सभी को खुशी देने वाली (6) भैरवी (7)  चंद्रिका के चंडी (8)  ललिता (9)  भवानी (10) ममली

चैत्र और शरद नवरात्रि के अलावा, हिंदू संस्कृति में दो गुप्त नवरात्रि हैं। एक मान्यता के अनुसार गुप्त नवरात्रि का महत्व गुप्त नवरात्रि से अधिक है। गुप्त नवरात्रि विशेष रूप से देवी की साधना करने वाले भक्तों के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है। आषाढ़ मास में पड़ने वाली गुप्त नवरात्रि का अधिक महत्व है।

नवरात्रि के दौरान लोग माताजी के विभिन्न रूपों की पूजा करते हैं। इसके अलावा कई माई भक्त नवरात्रि का व्रत कर शक्ति की पूजा करते हैं। नवरात्रि के दौरान, माताजी के मंदिर और माधो विशेष पूजा-आरती, सजावट, माताजी का गरबा मनाते हैं। इसके अलावा शरद पूर्णिमा की रात को राश-गरबा कार्यक्रम भी होता है ।

गुप्त नवरात्रि के दौरान राजपुरा खोडियार मंदिर, शक्तिपीठ उच्च कोटड़ा चामुंडा माताजी के धाम आदि में भक्तों की भीड़ उमड़ती नजर आएगी। नवरात्रि, जिसे आषाढ़, गायत्री या शाकंभरी के नाम से भी जाना जाता है, भक्तों के बीच उत्साह की स्थिति में है।

नवरात्रि का महत्व  ( नवरात्रि का पौराणिक महत्व )

नवरात्रि का जितना महत्व विभिन्न रूपों में मां की पूजा है, उतना ही मां की पूजा के दौरान व्रत और उपवास का महत्व है। ईश्वर की प्राप्ति तभी संभव है जब दोनों विषयों की प्रक्रियाओं का नियमों के अनुसार पालन किया जाए।

नवरात्रि में सभी अपनी-अपनी भक्ति और शक्ति के अनुसार व्रत रखते हैं। कुछ लोग जमीन पर एक समय फल खाकर यह व्रत रखते हैं। अगर आप भी गरबा खेलने जा रहे हैं तो आपके लिए एक दिन का व्रत रखना ज्यादा उचित रहेगा।

नवरात्रि से पहले घरती के दिन बहुत सारी आपदाएं आती हैं। बारिश के कारण संक्रामक रोग का प्रकोप, या ठंड में वृद्धि, एक जगह बारिश और दूसरे में सूखा। ये प्राकृतिक आपदाएं श्रावण-भद्रव और आसो महीनों के दौरान अधिक आम हैं। तो इन सभी परेशानियों को दूर करने के लिए नौ दिनों तक व्रत उपासना की जाती है।

अर्थात नवरात्रि के नौ दिनों तक हमें बुरे विचार, छल-कपट और ईर्ष्या को पीछे छोड़कर नौ दिनों तक मानव कल्याण के कार्य करने चाहिए।

इस व्रत को मनाने के पीछे का उद्देश्य केवल माता की शक्ति प्राप्त करना है। जो लोग नवरात्रि का व्रत रखते हैं उन्हें अन्य व्रतों की अपेक्षा अधिक फल प्राप्त होते हैं। नवरात्रि प्रकृति का मौसम है। यह मौसम जीव जंतुओं और मनुष्यों के लिए कष्टदायक होता है। यदि इन दिनों में आध्यात्मिक बीज बोए जाते हैं, तो हमें वैसा ही फल मिलता है।

यदि नवरात्रि के पहले दिन यानी पतझड़ के दिन हस्त नक्षत्र हो तो उस दिन विधि पूर्वक देवी की पूजा करने से मनोवांछित फल मिलता है। व्रत के पहले दिन नौ दिन के व्रत का संकल्प लें और माता से प्रार्थना करें- ‘हे माता! मैं अपनी शक्ति और भक्ति के अनुसार उपवास करूंगा, अगर कोई गलती हो तो समझो और अपने बच्चों को माफ कर दो।’

जय माताजी, हैप्पी नवरात्रि,

मुझे उम्मीद है कि आपको नवरात्रि के महत्व पर हमारा लेख बहुत पसंद आया होगा। इस लेख में हमने  नवरात्रि का इतिहास, धार्मिक महत्व, नवरात्रि पूजा अनुष्ठानों के बारे में जानकारी दी है । यदि आपने वास्तव में कुछ नया सीखा है और यह लेख उपयोगी पाया है, तो इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करना न भूलें। आपका लाइक, कमेंट और शेयर हमें और अधिक लिखने और आपको नवीनतम जानकारी प्रदान करने के लिए प्रेरित करता है।

यह भी पढ़े !

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

Pinterest पर पैसे कैसे कमाए Josh App Se Paise Kaise Kamaye Britney Spears Says She’s ‘Just Playing In The Studio’ Ric Flair Invited WWE Hall Of Famer To Be Part Of Final Match R Kelly’s fiancée Joycelyn Savage says she is pregnant with their baby